Топ-100

किन्नर साम्राज्य

महाभारत-काल में किन्नर साम्राज्य किन्नर नामक जनजाति के क्षेत्र को संदर्भित करता है, जो विदेशी जनजातियों में से एक थे। वे हिमालय पर्वत के निवासी थे। गंगा के मैदान के लोग उन्हें आश्चर्य से देखते थे और उन्हें अलौकिक शक्तियों का स्वामी मानते थे।
किन्नरों को रहस्यमय तरीके से घोड़ों के साथ जोड़ा जाता था। पुराणों में उनका उल्लेख घोड़े की गर्दन वाले प्राणियों के रूप में है।
महाकाव्य महाभारत में किन्नरों का उल्लेख घोड़े के सिर वाले प्राणियों के रूप में न होकर अर्ध-मानव और अर्ध-अश्व रूप में है ग्रीक पौराणिक कथाओं के जीव सेंटौर के समान। महाभारत और पुराणों में किन्नरों का निवास स्थान हिमालय के उत्तर में बताया गया है। इस क्षेत्र में कम्बोज नामक जनजाति के लोगों का भी निवास था। वे कुशल योद्धा थे, जो घुड़सवारी और अश्व-युद्ध में निपुण थे। उनमें से कुछ जनजातियाँ लूटमार में भी लिप्त थीं, और अपनी कुशल घुड़सवार सेनाओं के बल पर गाँव-बस्तियों पर आक्रमण किया करती थीं। किन्नरों का मिथक संभवत: इन घुड़सवारों से आया था। महाकाव्य में एक और संदर्भ उन्हें गंधर्वों के एक उप-समूह के रूप में देखा गया है। बौद्ध और हिंदू, दोनों धर्मों के ग्रंथों में किन्नरों का उल्लेख है।

1. किन्नरों का राज्य क्षेत्र
मंदर पर्वत को किन्नरों का निवास स्थान कहा जाता है- एक मंदर नामक पर्वत है जो बादल जैसी चोटियों से सुशोभित है। इसपर ढेर सारी जड़ी-बूटियाँ पाई जाती हैं। वहाँ अनगिनत पक्षी अपनी धुनें सुनाते हैं, और शिकारी जानवर गश्त लगाते हैं।

2. अन्य विदेशी जनजातियों के साथ सम्बंध
किन्नरों का उल्लेख अर्ध-पुरुष और अर्ध-अश्व के रूप में किया जाता है। उनका सम्बंध अन्य विदेशी जनजातियों से बताया जाता है।
किन्नरों का उल्लेख अन्य विदेशी जनजातियों के साथ-साथ नागों, उरगों, पन्नगों, सुपर्णों, विद्याधरों, सिद्धों, चारणों, वालिखिलियों, पिसाच, गन्धर्वों, अप्सराओं, किमपुरुषों, यक्षों, राक्षसों और वानरों के साथ किया जाता है। 1-18.66, 2-10, 3-82.84.104.108.139.200.223.273 4-70, 5-12, 7-108.160, 8-11, 9-46, 12- 168.227.231.302.327.334, 13-58.83.87.140, 14-43.44.88.92।
रामायण में, किन्नरों का उल्लेख देवों, गन्धर्वों, सिद्धों और अप्सराओं के साथ किया गया है। किन्नरों को एक स्त्रीवत जाति माना जाता था, जो सदैव रसिक लीलाओं में लिप्त रहती थी। मनुस्मृति में मनु ने उल्लेख किया है कि अत्रि के पुत्र दैत्यों, दानवों, यक्षों, गंधर्वों, उरगों, राक्षसों और किन्नरों के पिता हैं।

ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में घुड़सवारी

1900 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में घुड़सवारी ग्रीष्मकालीन ओलंपिक की शुरुआत की, पेरिस, फ्रांस में। यह 1912 तक गायब हो गया था, लेकिन बाद में हर ग्रीष्मकालीन ओलंपिक ख...

बरेली का इतिहास

बरेली भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक नगर है। यह राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ को जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग २४ के बीच...

कुणाल मून

कुणाल चंद्रमा एक भारतीय समकालीन कलाकार हैं जो अपनी कला से भारतीय शास्त्रीय नृत्य प्रदर्शन करने के लिए जाना जाता है, की वजह से उनके अद्वितीय शैली का मुख्य विष...

टायर रीसाइक्लिंग व्यापार

टायर रीसाइक्लिंग व्यापार का पूरा विवरण बता सकते हैं, क्या यह है कि यह कैसे शुरू करने के लिए कैसे पूंजी लग जाएगा, आदि? टायर रिसाइक्लिंग व्यवसाय - आप वाहनों के...

दुलावत वंश

सूरजवंश रघुकूल तिलक अवधनाथ रघुबीर ताहि कुंवर लव खाँप मे अव्वल राण हम्मीर लाखों हम्मीर रो पोतरो ता कुँवर दुल्हा राणी लखमादे जनिया सहउदर चूण्डा संवत् चैदह गुनच...

नाथाजी और यामाजी

नाथाजी पटेल और यामाजी पटले भारत मे ब्रिटिश राज के दौरान चन्दप गांव जिसे चांडप भी बोला/लिखा जाता है के कोली पटेल थे। यह गांव उनके अधीन था। नाथाजी और यामाजी ने...

जीवाभाई ठाकोर

जीवाभाई ठाकोर गुजरात में महीसागर जिले के लुणावाडा मे खानपुर के कोली ठाकोर थे। जिसने १८५७ की क्रांती के समय अंग्रेजों के खिलाफ हथियार उठाए थे एवं महीसागर क्षे...

राजा मांडलिक

राजा मांडलिक इडर के शासक थे। राजा मांडलिक ने मेवाड़ अथवा गुहिल वंश के संस्थापक राजा गुहादित्य को अपने संरक्षण में रखा। जब शिलादित्य के वल्लभी पर मलेच्छो ने ह...