Топ-100

भारतीय विधि

भारतीय कानून, ब्रितानी कानून पर आधारित है। अंग्रेज़ो ने इसे पहली बार अपने शासनकाल के दौरान लागू किया। अंग्रेज़ो द्वारा लागू किये कई अधिनियम और अध्यादेश आज भी प्रभावशील हैं।
भारतीय संविधान के लेखन के दौरान इसमें आयरलैंड, संयुक्त राज्य अमेरीका, ब्रिटेन और फ्रांस के कानूनों को समाहित synthesize किया गया था। भारतीय कानून, संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकाऔर वातावरण संम्बधी दिशानिर्देशों के अनुरूप है। इसमें कुछ अंतरराष्ट्रीय कानूनों, जैसे बौधिक अधिकारों आदि, को भारत में लागू किया गया है।
भारतीय नागरिक कानून Indian Civil Law एक जटिल कानून है जिसमें प्रत्येक धर्म-विशेष के अपने कानून हैं। अधिकांश राज्यों में विवाह और तलाक के लिए पंजीकरण आवश्यक नहीं है। हिंदू, मुसलमान, ईसाई, सिक्ख व अन्य धर्मों के अपने कानून हैं। इसका अकेला अपवाद गोवा राज्य है जहां पुर्तगाली समान नागरिक संहिता प्रभावी है और सभी धर्मों के लिए विवाह, तलाक और बच्चा गोद लेने सम्बंधी एक जैसे कानून हैं।

image

व ध स ब ध व षय पर महत वप र ण स झ व द न क ल ए सरक र आवश यकत न स र आय ग न य क त कर द त ह इन ह व ध आय ग Law Commission, ल कम शन कहत ह
भ रत य अपक त य व ध Tort law in India अप क ष क त नय क मन ल ह अपक त य क उपय ग क न न म क ई ऐस क र य क ल ए क य ज त ह ज सस क ई क षत य अपक र
भ रत य र ष ट र य व ध व श वव द य लय अ ग र ज न श नल ल स क ल ऑफ इण ड य य न वर स ट NLSIU य NLS व ध स क य म अ डर ग र ज एट और स न तक त तर श क ष
अध यक ष अश क क म र स न रह ह ज भ रत य व ध क ष त र क प रख य त थ क ष त र य ब र पर षद व ध मह व द य लय व ध स स थ न भ रत य ब र पर षद क आध क र क ज लस थल
व ध स ब ध व षय पर महत वप र ण स झ व द न क ल ए र ज य र ष ट र आवश यकत न स र आय ग न य क त कर द त ह इन ह व ध आय ग Law Commission, ल कम शन
भ रत य क रप र ट व ध स व Indian Corporate Law Service भ रत क क रप र ट जगत क न यमन करन व ल स स थ ह यह भ रत क क न द र य स व ल स व क एक प रम ख
व ध य क न न क स न यमस ह त क कहत ह व ध प र य भल भ त ल ख ह ई स स चक इन स ट रक शन स क र प म ह त ह सम ज क सम यक ढ ग स चल न क
व ध श सन य क न न क श सन Rule of law क अर थ ह क क न न सर व पर ह तथ वह सभ ल ग पर सम न र प स ल ग ह त ह व ध श सन क प रम ख स द ध त ह
इनप ट व ध क इनप ट म थड य इनप ट म थड ऍड टर आइऍमई भ कह ज त ह कम प य टर एव अन य ड ज टल य क त य क सन दर भ म इनप ट व ध य न व श व ध वह प र ग र म

पर य वरण य व ध अथव पर य वरण व ध अ ग र ज Environmental law सम क त र प स उन सभ अ तर र ष ट र य, र ष ट र य अथव क ष त र य सन ध य समझ त और स व ध न क
क व ध य व ध बत न व ल ग रन थ क ट टक - अन र ध र य सम करण ज नक प र ण क हल न क लन ह त थ त र र श कव यवह र द र ल ऑफ थ र य वत - त वत - भ रत य ब जगण त
भ रत य र ष ट र कत व ध इ ड यन न शन ल ट ल क अन स र भ रत क स व ध न प र द श क ल ए एकम त र न गर कत उपलब ध कर त ह न गर कत स सम बन ध त प र वध न
क य ज न क ल ए आवश यक ह अथव नह यद यप भ रत य स क ष य अध न यम प रक र य व ध ह ल क न इसम म ल व ध क न यम श म ल ह ज स - ध र 6 - 55 तक तथ य
भ रत य भ जन य भ रत य ख न अपन भ तर भ रत क सभ क ष त र, र ज य क अन क भ जन क न म ह ज स भ रत म सब क छ अन क और व व ध ह भ रत य भ जन भ उस तरह
अलग करन क ल य अब तक आव ष क त तर क म व ज ञ न क व ध सर वश र ष ठ ह स क ष प म व ज ञ न क व ध न म न प रक र स क र य करत ह ब रह म ण ड क क स
स भ रत य भ ष च ट ठ क स ख य त ज स बढ न लग यद यप भ रत य भ ष ओ क म नक क ब र ड इनस क र प ट ह परन त य न क ड ट इप ग क ल य फ न ट क व ध अपन
व ध य क न न क व यक त क व ध Personal law और प र द श क व ध - इन द प रवर ग म व भक त क य ज सकत ह व यक त क व ध स त त पर य उस व ध स ह
व र त गण त, स गणन तथ अन य व ध ओ म क स क र य क करन क ल य आवश यक चरण क सम ह क कलन व ध अल ग र द म कहत ह कलन व ध क क स स पष ट र प स प र भ ष त
चक रव ल व ध अन र ध र य वर ग सम करण indeterminate quadratic equations क हल करन क चक र य व ध ह इसक द व र प ल क सम करण क भ हल न कल ज त ह
म अन स ध न तथ अन य व ज ञ न क व स म ज क व ध ओ म स ख य क क अन प रय ग करन ह इसक सन म भ रत य स सद क एक व ध यक द व र र ष ट र य महत व
व ध व न द च पड जन म स तम बर श र नगर, जम म और कश म र ल खक, न र म त न र द शक, स प दक, ग तक र, अभ न त ह इन ह न भ रत य स न म क बह त

कह स सद व ध न र व चन क स ब ध म म न ह वह न ष पक ष च न व करव न क ल य न र व चन आय ग अस म त शक त रखत ह यधप प र क त क न य य, व ध क श सन तथ
स भ रत य ल कस व ओ पर पड पर त स म न य र प म न गर क स व ए हम र स व ध न द व र न र ध र त व यवस थ ओ क अ तर गत, स वत त र ह न क प र व क व ध - व ध न
व ध क इत ह स य व ध क इत ह स क अन तर गत व ध क उत पत त उसक क रम क - व क स एव उसम क लक रम म आय पर वर तन क अध ययन क य ज त ह व ध क इत ह स
भ रत य तटरक षक क स थ पन श त क ल म भ रत य सम द र क स रक ष करन क उद द श य स 18 अगस त 1978 क स घ क एक स वत त र सशस त र बल क र प म स सद
पर स थ त य म र ज य स च पर स सद व ध न र म ण कर सकत ह क त क स एक भ पर स थ त म र ज य, क न द र ह त व ध न र म ण नह कर सकत - क1. अन 249 - र ज य
क व ध स प रस त त क ए ज त ह क छ ऐस भ प च ग बनत ह ज न ह न ट कल अल मन क क आध र पर प रस त त क य ज त ह क त इन ह प र य: भ रत य न रयण
ह न द व ध Hindu Law ज न व यक त य पर ल ग ह त ह उन ह हम त न म ख य प रवर ग म ब ट सकत ह : - व व यक त ज धर मत ह न द ज न, ब द ध य स ख
न मक ग र थ क हव ल भ द त ह ज सम इस व य जन क बन न क व ध क उल ल ख ह भ रत य म ल पर ज र द न व ल इस जल - वल ल क कहत ह रस स पर प र ण
भ रत य सशस त र स न ए भ रत क तथ इसक प रत य क भ ग क स रक ष स न श च त करन क ल ए उत तरद य ह भ रत य शस त र स न ओ क सर व च च कम न भ रत क र ष ट रपत

राष्ट्रीय कम्पनी विधि अपील अधिकरण

राष्ट्रीय कम्पनी विधि अपील अधिकरण) एक अधिकरण है, जो भारत के केंद्र सरकार द्वारा कम्पनी अधिनियम, 2013 की धारा 410 के तहत बनाया गया था। यह अधिकरण नेशनल कंपनी ल...

माध्यमिक एवं सुलभ अधिनियम, 1996

माध्यस्थ्म, एवं सुलह अधिनिय्म 1996 का मुख्य उद्देश्य ‘’ विदेशी माध्यश्थम पंचाटो और अन्तर्राशट्रीय वाणिज़िय्क माध्य्थम मे. देशी माध्य्श्थम से सम्बनिधत विधि को...