Топ-100
  • बंदिनी बंदिनी

    बंदिनी एक भारतीय धारावाहिक है जिसकी सर्जक एकता कपूर है जिन्होंने अपने माता शोभा कपूर के साथ इस धारावाहिक का सह निर्माण किया है। इस धारावाहिक में टीवी के मशहू...

  • पवित्र भाग्य पवित्र भाग्य

    पवित्र भाग्य एक भारतीय पारिवारिक प्रेमकहानि धारावाहिक है जिसकी सर्जक एकता कपूर है। ये धारावाहिक ३ मार्च २०२० से सोम-शुक्र रात १०:०० बजे भारतीय टीवी चैनल कलर्...

  • मालविका सरुक्कई मालविका सरुक्कई

    मालविका सरुक्कई एक भारतीय शास्त्रीय नर्तकी और भरतनाट्यम में विशेषज्ञता वाली कोरियोग्राफर हैं। उनकी माँ का नाम सरोजा कामाक्षी सरुक्कई था। उनकी शास्त्रीय नृत्य...

  • द रीडर (फिल्म) द रीडर (फिल्म)

    द रीडर, 2008 की एक ड्रामा फिल्म है जो बर्नार्ड श्लिंक के 1995 में जर्मन में इसी नाम से प्रकाशित उपन्यास पर आधारित है। इस फिल्म के रूपांतरण का लेखन डेविड हेअर...

  • आई (फ़िल्म) आई (फ़िल्म)

    आई तमिल भाषा में बनी एक भारतीय बॉलीवुड फ़िल्म है। इसे हिन्दी और तेलुगू भाषा में अनुवादित किया गया है। यह फ़िल्म एस शंकर द्वारा निर्देशित की गई है जिसका निर्म...

  • शक्ति (1982 फ़िल्म) शक्ति (1982 फ़िल्म)

    इस फिल्म से पहली बार रमेश सिप्पी ने अपने घरेलू बैनर ‘सिप्पी फिल्म्स’ से बाहर जाकर निर्माता मुशीर-रियाज़ की कंपनी एम.आर. प्रोडक्शन्स के लिए फिल्म का निर्देशन ...

  • अक्रॉस द यूनिवर्स (फ़िल्म) अक्रॉस द यूनिवर्स (फ़िल्म)

    अक्रॉस द यूनिवर्स एक संगीतमय फिल्म है जिसके निर्देशक जूली टेमर, निर्माता रेवलूशन स्टूडियोज़ और वितरक कोलंबिया पिक्चर्स हैं। इसे 12 अक्टूबर 2007 को संयुक्त रा...

  • मिल्क (फिल्म) मिल्क (फिल्म)

    मिल्क 2008 की अमेरिकी, जीवनी आधारित फिल्म है जो समलैंगिक अधिकारों के कार्यकर्ता तथा राजनीतिज्ञ हार्वे मिल्क के जीवन पर आधारित है, जो कैलिफोर्निया के एक सार्व...

  • रोमा (2018 फ़िल्म) रोमा (2018 फ़िल्म)

    रोमा, 2018 की एक ड्रामा फिल्म है, जिसे अल्फांसो क्वारोन द्वारा लिखित और निर्देशित किया गया है, इन्होंने इसका निर्माण, शूटिंग और सह-संपादन भी किया है। 1970 और...

  • द गॉडफ़ादर द गॉडफ़ादर

    द गॉडफ़ादर एक 1972 की अमेरिकी थ्रिलर फ़िल्म है, जो मारियो प्युज़ो के इसी नाम के उपन्यास साँचा:Lty पर आधारित है और प्यूज़ो, कोपोला और रॉबर्ट टाउन की पटकथा के ...

  • गाँधी (फ़िल्म) गाँधी (फ़िल्म)

    गाँधी १९८२ में बनी लोकप्रिय भारतीय हस्ती मोहनदास करमचंद गाँधी के वास्तविक जीवनी पर आधारित फ़िल्म है। फ़िल्म का निर्देशन रिचर्ड एटनबरो द्वारा किया गया है और इ...

  • द एनिमल्स फिल्म द एनिमल्स फिल्म

    द एनिमल्स फिल्म, विक्टर स्कॉनफेल्ड एवं मिरिअम अल्औक्स द्वारा निर्देशित, मानव द्वारा जानवरों के इस्तेमाल के बारे में एक फीचर डॉक्यूमेंट्री फिल्म है। अभिनेत्री...

  • द आर्टिस्ट द आर्टिस्ट

    द आर्टिस्ट 2011 की एक फ्रांसीसी/अमेरिकी मूक रोमांस हास्य फ़िल्म है जिसका निर्देशन मिशेल हज़ानविसियस ने किया है और फ़िल्म के प्रमुख सितारे जीन दुजार्दिन और बे...

नाटक

नाटक, काव्य और गध्य का एक रूप
है।
जो
रचना श्रवण द्वारा ही नहीं अपितु दृष्टि द्वारा भी दर्शकों के हृदय में रसानुभूति कराती है उसे नाटक या दृश्य-काव्य कहते हैं। नाटक में श्रव्य काव्य से अधिक रमणीयता होती है। श्रव्य काव्य होने के कारण यह लोक चेतना से अपेक्षाकृत अधिक घनिष्ठ रूप से संबद्ध है। नाट्यशास्त्र में लोक चेतना को नाटक के लेखन और मंचन की मूल प्रेरणा माना गया है।

image

1. परिचय
नाटक की गिनती काव्यों में है। काव्य दो प्रकार के माने गये हैं - श्रव्य और दृश्य। इसी दृश्य काव्य का एक भेद नाटक माना गया है। पर दृष्टि द्वारा मुख्य रूप से इसका ग्रहण होने के कारण दृश्य काव्य मात्र को नाटक कहने लगे हैं।
भरतमुनि का नाट्यशास्त्र इस विषय का सबसे प्राचीन ग्रंथ मिलता है। अग्निपुराण में भी नाटक के लक्षण आदि का निरूपण है। उसमें एक प्रकार के काव्य का नाम प्रकीर्ण कहा गया है। इस प्रकीर्ण के दो भेद है - काव्य और अभिनेय। अग्निपुराण में दृश्य काव्य या रूपक के २७ भेद कहे गए हैं -: नाटक, प्रकरण, डिम, ईहामृग, समवकार, प्रहसन, व्यायोग, भाण, वीथी, अंक, त्रोटक, नाटिका, सट्टक, शिल्पक, विलासिका,
दुर्मल्लिका, प्रस्थान, भाणिका, भाणी, गोष्ठी, हल्लीशक, काव्य, श्रीनिगदित, नाटयरासक, रासक, उल्लाप्यक और प्रेक्षण।
साहित्यदर्पण में नाटक के लक्षण, भेद आदि अधिक स्पष्ट रूप से दिए हैं।
ऊपर लिखा जा चुका है कि दृश्य काव्य के एक भेद का नाम नाटक है। दृश्य काव्य के मुख्य दो विभाग हैं - रूपक और उपरूपक। रूपक के दस भेद हैं - रूपक, नाटक, प्रकरण, भाण, व्यायोग, समवकार, ड़िम, ईहामृग, अंकवीथी और प्रहसन। उपरूपक के अठारह भेद हैं - नाटिका, त्रोटक, गोष्ठी, सट्टक, नाटयरासक, प्रस्थान, उल्लाप्य, काव्य, प्रेक्षणा, रासक, संलापक, श्रीगदित, शिंपक, विलासिका, दुर्मल्लिका, प्रकरणिका, हल्लीशा और भणिका।
उपर्युक्त भेदों के अनुसार नाटक शब्द दृश्य काव्य मात्र के अर्थ में बोलते हैं। साहित्यदर्पण के अनुसार नाटक किसी ख्यात वृत्त प्रसिद्ध आख्यान, कल्पित नहीं की लेकर लिखाना चाहिए। वह बहुत प्रकार के विलास, सुख, दुःख, तथा अनेक रसों से युक्त होना चाहिए। उसमें पाँच से लेकर दस तक अंक होने चाहिए। नाटक का नायक धीरोदात्त तथा प्रख्यात वंश का कोई प्रतापी पुरुष या राजर्षि होना चाहिए। नाटक के प्रधान या अंगी रस शृंगाऔर वीर हैं। शेष रस गौण रूप से आते हैं। शांति, करुणा आदि जिस रुपक में में प्रथान हो वह नाटक नहीं कहला सकता। संधिस्थल में कोई विस्मयजनक व्यापार होना चाहिए। उपसंहार में मंगल ही दिखाया जाना चाहिए। वियोगांत नाटक संस्कृत अलंकार शास्त्र के विरुद्ध है।

2. नाटक शब्दावली
अभिनय आरंभ होने के पहले जो क्रिया मंगलाचरण नांदी होती है, उसे पूर्वरंग कहते हैं। पूर्वरंग, के उपरांत प्रधान नट या सूत्रधार, जिसे स्थापक भी कहते हैं, आकर सभा की प्रशंसा करता है फिर नट, नटी सूत्रधार इत्यादि परस्पर वार्तालाप करते हैं जिसमें खेले जानेवाले नाटक का प्रस्ताव, कवि-वंश-वर्णन आदि विषय आ जाते हैं। नाटक के इस अंश को प्रस्तावना कहते हैं। जिस इतिवृत्त को लेकर नाटक रचा जाता है उसे वस्तु कहते हैं। वस्तु दो प्रकार की होती है - आधिकारिक वस्तु और प्रासंगिक वस्तु। जो समस्त इतिवृत्त का प्रधान नायक होता है उसे अधिकारी कहते हैं। इस अधिकारी के संबंध में जो कुछ वर्णन किया जाता है उसे आधिकारिक वस्तु कहते हैं; जैसे, रामलीला में राम का चरित्र। इस अधिकारी के उपकार के लिये या रसपुष्टि के लिये प्रसंगवश जिसका वर्णन आ जाता है उसे प्रांसगिक वस्तु कहते हैं; जैसे सुग्रीव, आदि का चरित्र। सामने लाने अर्थात् दृश्य संमुख उपस्थित करने को अभिनय कहते हैं। अतः अवस्थानुरुप अनुकरण या स्वाँग का नाम ही अभिनय है। अभिनय चार प्रकार का होता है - आंगिक, वाचिक, आहार्य और सात्विक। अंगों की चेष्टा से जो अभिनय किया जाता है उसे आंगिक, वचनों से जो किया जाता है उसे वाचिक, भेस बनाकर जो किया जाता हैं उसे आहार्य तथा भावों के उद्रेक से कंप, स्वेद आदि द्वारा जो होता है उसे सात्विक कहते हैं। नाटक में बीज, बिंदु, पताका, प्रकरी और कार्य इन पाँचों के द्वारा प्रयोजन सिद्धि होती है। जो बात मुँह से कहते ही चारों ओर फैल जाय और फलसिद्धि का प्रथम कारण हो उसे बीज कहते हैं, जैसे वेणीसंहार नाटक में भीम के क्रोध पर युधिष्ठिर का उत्साहवाक्य द्रौपदी के केशमोजन का कारण होने के कारण बीज है। कोई एक बात पूरी होने पर दूसरे वाक्य से उसका संबंध न रहने पर भी उसमें ऐसे वाक्य लाना जिनकी दूसरे वाक्य के साथ असंगति न हो बिंदु है। बीच में किसी व्यापक प्रसंग के वर्णन को पताका कहते हैं - जैसे उत्तरचरित में सुग्रीव का और अभिज्ञान- शांकुतल में विदूषक का चरित्रवर्णन। एक देश व्यापी चरित्रवर्णन को प्रकरी कहते हैं। आरंभ की हुई क्रिया की फलसिद्धि के लिये जो कुछ किया जाय उसे कार्य कहते हैं; जैसे, रामलीला में रावण वध। किसी एक विषय की चर्चा हो रही हो, इसी बीच में कोई दूसरा विषय उपस्थित होकर पहले विषय से मेल में मालूम हो वहाँ पताका स्थान होता है, जैसे, रामचरित् में राम सीता से कह रहे हैं - हे प्रिये! तुम्हारी कोई बात मुझे असह्य नहीं, यदि असह्य है तो केवल तुम्हारा विरह, इसी बीच में प्रतिहारी आकर कहता है: देव! दुर्मुख उपस्थित। यहाँ उपस्थित शब्द से विरह उपस्थित ऐसी प्रतीत होता है और एक प्रकार का चमत्कार मालूम होता है। संस्कृत साहित्य में नाटक संबंधी ऐसे ही अनेक कौशलों की उद्भावना की गई है और अनेक प्रकार के विभेद दिखागए हैं।
आजकल देशभाषाओं में जो नए नाटक लिखे जाते हैं उनमें संस्कृत नाटकों के सब नियमों का पालन या विषयों का समावेश अनावश्यक समझा जाता है। भारतेंदु हरिश्चंद्र लिखते हैं - संस्कृत नाटक की भाँति हिंदी नाटक में उनका अनुसंधान करना या किसी नाटकांग में इनको यत्नपूर्वक रखकर नाटक लिखना व्यर्थ है; क्योंकि प्राचीन लक्षण रखकर आधुनिक नाटकादि की शोभा संपादन करने से उल्टा फल होता है और यत्न व्यर्थ हो जाता है।

3. नाटक के प्रमुख तत्व
कथावस्तु
कथावस्तु को ‘नाटक’ ही कहा जाता है अंग्रेजी में इसे ‘प्लॉट’ की संज्ञा दी जाती है जिसका अर्थ आधार या भूमि है। कथा तो सभी प्रबंध का प्रबंधात्मक रचनाओं की रीढ़ होती है और नाटक भी क्योंकि प्रबंधात्मक रचना है इसलिए कथानक इसका अनिवार्य है। भारतीय आचार्यों ने नाटक में तीन प्रकार की कथाओं का निर्धारण किया है – १ प्रख्यात २ उत्पाद्य ३ मिस्र प्रख्यात कथा।
प्रख्यात कथा –
प्रख्यात कथा इतिहास, पुराण से प्राप्त होती है। जब उत्पाद्य कथा कल्पना पराश्रित होती है, मिश्र कथा कहलाती है। इतिहास और कथा दोनों का योग रहता है। इन कथा आधारों के बाद नाटक कथा को मुख्य तथा गौण अथवा प्रासंगिक भेदों में बांटा जाता है, इनमें से प्रासंगिक के भी आगे पताका और प्रकरी है । पताका प्रासंगिक कथावस्तु मुख्य कथा के साथ अंत तक चलती है जब प्रकरी बीच में ही समाप्त हो जाती है। इसके अतिरिक्त नाटक की कथा के विकास हेतु कार्य व्यापार की पांच अवस्थाएं प्रारंभ प्रयत्न, परपर्याशा नियताप्ति और कलागम होती है। इसके अतिरिक्त नाटक में पांच संधियों का प्रयोग भी किया जाता है। वास्तव में नाटक को अपनी कथावस्तु की योजना में पात्रों और घटनाओं में इस रुप में संगति बैठानी होती है कि पात्र कार्य व्यापार को अच्छे ढंग से अभिव्यक्त कर सके। नाटककार को ऐसे प्रसंग कथा में नहीं रखनी चाहिए जो मंच के संयोग ना हो यदि कुछ प्रसंग बहुत आवश्यक है तो नाटककार को उसकी सूचना कथा में दे देनी चाहिए।:नाटक की कथावस्तु पौराणिक, ऐतिहासिक, काल्पनिक या सामाजिक हो सकती है।
पात्र
नाटक में नाटक का अपने विचारों, भावों आदि का प्रतिपादन पात्रों के माध्यम से ही करना होता है। अतः नाटक में पात्रों का विशेष स्थान होता है। प्रमुख पात्र अथवा नायक कला का अधिकारी होता है तथा समाज को उचित दशा तक ले जाने वाला होता है। भारतीय परंपरा के अनुसार वह विनयी, सुंदर, शालीनवान, त्यागी, उच्च कुलीन होना चाहिए। किंतु आज नाटकों में किसान, मजदूर आदि कोई भी पात्र हो सकता है। पात्रों के संदर्भ में नाटककार को केवल उन्हीं पात्रों की सृष्टि करनी चाहिए जो घटनाओं को गतिशील बनाने में तथा नाटक के चरित्पर प्रकाश डालने में सहायक होते हैं।
पात्रों का सजीव और प्रभावशाली चरित्र ही नाटक की जान होता है। कथावस्तु के अनुरूप नायक धीरोदात्त, धीर ललित, धीर शांत या धीरोद्धत हो सकता है।
उद्देश्य
सामाजिक के हृदय में रक्त का संचार करना ही नाटक का उद्देश्य होता है। नाटक के अन्य तत्व इस उद्देश्य के साधन मात्र होते हैं। भारतीय दृष्टिकोण सदा आशावादी रहा है इसलिए संस्कृत के प्रायः सभी नाटक सुखांत रहे हैं। पश्चिम नाटककारों ने या साहित्यकारों ने साहित्य को जीवन की व्याख्या मानते हुए उसके प्रति यथार्थ दृष्टिकोण अपनाया है उसके प्रभाव से हमारे यहां भी कई नाटक दुखांत में लिखे गए हैं, किंतु सत्य है कि उदास पात्रों के दुखांत अंत से मन खिन्न हो जाता है। अतः दुखांत नाटको का प्रचार कम होना चाहिए।
भाषा शैली
नाटक सर्वसाधारण की वस्तु है अतः उसकी भाषा शैली सरल, स्पष्ट और सुबोध होनी चाहिए, जिससे नाटक में प्रभाविकता का समावेश हो सके तथा दर्शक को क्लिष्ट भाषा के कारण बौद्धिक श्रम ना करना पड़े अन्यथा रस की अनुभूति में बाधा पहुंचेगी। अतः नाटक की भाषा सरल व स्पष्ट रूप में प्रवाहित होनी चाहिए।
देशकाल वातावरण
देशकाल वातावरण के चित्रण में नाटककार को युग अनुरूप के प्रति विशेष सतर्क रहना आवश्यक होता है। पश्चिमी नाटक में देशकाल के अंतर्गत संकलनअत्र समय स्थान और कार्य की कुशलता का वर्णन किया जाता है। वस्तुतः यह तीनों तत्व ‘ यूनानी रंगमंच ‘ के अनुकूल थे। जहां रात भर चलने वाले लंबे नाटक होते थे और दृश्य परिवर्तन की योजना नहीं होती थी। परंतु आज रंगमंच के विकास के कारण संकलन का महत्व समाप्त हो गया है। भारतीय नाट्यशास्त्र में इसका उल्लेख ना होते हुए भी नाटक में स्वाभाविकता, औचित्य तथा सजीवता की प्रतिष्ठा के लिए देशकाल वातावरण का उचित ध्यान रखा जाता है। इसके अंतर्गत पात्रों की वेशभूषा तत्कालिक धार्मिक, राजनीतिक, सामाजिक परिस्थितियों में युग का विशेष स्थान है। अतः नाटक के तत्वों में देशकाल वातावरण का अपना महत्व है।
संवाद
नाटक में नाटकार के पास अपनी और से कहने का अवकाश नहीं रहता। वह संवादों द्वारा ही वस्तु का उद्घाटन तथा पात्रों के चरित्र का विकास करता है। अतः इसके संवाद सरल, सुबोध, स्वभाविक तथा पात्रअनुकूल होने चाहिए। गंभीर दार्शनिक विषयों से इसकी अनुभूति में बाधा होती है। इसलिए इनका प्रयोग नहीं करना चाहिए। नीर सत्ता के निरावरण तथा पात्रों की मनोभावों की मनोकामना के लिए कभी-कभी स्वागत कथन तथा गीतों की योजना भी आवश्यक समझी गई है।
रस
नाटक में नवरसों में से आठ का ही परिपाक होता है। शांत रस नाटक के लिए निषिद्ध माना गया है। वीर या शृंगार में से कोई एक नाटक का प्रधान रस होता है।
अभिनय
यह नाटक की प्रमुख विशेषता है। नाटक को नाटक के तत्व प्रदान करने का श्रेय इसी को है। यही नाट्यतत्व का वह गुण है जो दर्शक को अपनी ओर आकर्षित कर लेता है। इस संबंध में नाटककार को नाटकों के रूप, आकार, दृश्यों की सजावट और उसके उचित संतुलन, परिधान, व्यवस्था, प्रकाश व्यवस्था आदि का पूरा ध्यान रखना चाहिए। दूसरे शब्दों में लेखक की दृष्टि रंगशाला के विधि – विधानों की ओर विशेष रुप से होनी चाहिए इसी में नाटक की सफलता निहित है।
अभिनय भी नाटक का प्रमुख तत्व है। इसकी श्रेष्ठता पात्रों के वाक्चातुर्य और अभिनय कला पर निर्भर है। मुख्य प्रकार से अभिनय ४ प्रकार का होता हॅ।
१ - आंगिक अभिनय शरीर से किया जाने वाला अभिनय,
२ - वाचिक अभिनय (संवाद का अभिनय ।

4. नाटक का इतिहास
=== प्राचीन काल === भारत में अभिनय-कला और रंगमंच का वैदिक काल में ही निर्माण हो चुका था। तत्पश्चात् संस्कृत रंगमंच तो अपनी उन्नति की पराकाष्ठा पर पहुँच गया था-भरत मुनि का नाट्यशास्त्र इसका प्रमाण है। बहुत प्राचीन समय में भारत में संस्कृत नाटक धार्मिक अवसरों, सांस्कृतिक पर्वों, सामाजिक समारोहों एवं राजकीय बोलचाल की भाषा नहीं रही तो संस्कृत नाटकों की मंचीकरण समाप्त-सा हो गया।
भारतवर्ष में नाटकों का प्रचार बहुत प्राचीन काल से हैं। भरत मुनि का नाटयशास्त्र बहुत पुराना है। रामायण, महाभारत, हरिवंश इत्यादि में नट और नाटक का उल्लेख है। पाणिनि ने शिलाली और कृशाश्व नामक दो नटसूत्रकारों के नाम लिए हैं। शिलाली का नाम शुक्ल यजुर्वेदीय शतपथ ब्राह्मण और सामवेदीय अनुपद सूत्र में मिलता हैं। विद्वानों ने ज्योतिष की गणना के अनुसार शतपथ ब्राह्मण को ४००० वर्ष से ऊपर का बतलाया है। अतः कुछ पाश्चात्य विद्वानों की यह राय हक ग्रीस या यूनान में ही सबसे पहले नाटक का प्रादुर्भाव हुआ, ठीक नहीं है। हरिवंश में लिखा है कि जब प्रद्युम्न, सांब आदि यादव राजकुमार वज्रनाभ के पुर में गए थे तब वहाँ उन्होंने रामजन्म और रंभाभिसार नाटक खेले थे। पहले उन्होंने नेपथ्य बाँधा था जिसके भीतर से स्त्रियों ने मधुर स्वर से गान किया था। शूर नामक यादव रावण बना था, मनोवती नाम की स्त्री रंभा बनी थी, प्रद्युम्न नलकूबर और सांब विदूषक बने थे। विल्सन आदि पाश्चात्य विद्वानों ने स्पष्ट स्वीकार किया हैं कि हिंदुओं ने अपने यहाँ नाटक का प्रादुर्भाव अपने आप किया था। प्राचीन हिंदू राजा बडी बडी रंगशालाएँ बनवाते थे। मध्यप्रदेश में सरगुजा एक पहाड़ी स्थान है, वहाँ एक गुफा के भीतर इस प्रकार की एक रंगशाला के चिह्न पागए हैं। यह ठीक है कि यूनानियों के आने के पूर्व के संस्कृत नाटक आजकल नहीं मिलते हैं, पर इस बात से इनका अभाव, इतने प्रमाणों के रहते, नहीं माना जा सकता। संभव है, कलासंपन्न युनानी जाति से जब हिंदू जाति का मिलन हुआ हो तब जिस प्रकार कुछ और बातें एक ने दूसरे की ग्रहण की। इसी प्रकार नाटक के संबंध में कुछ बातें हिंदुओं ने भी अपने यहाँ ली हों। बाह्यपटी का जवनिका कभी कभी यवनिका नाम देख कुछ लोग यवन संसर्ग सूचित करते हैं। अंकों में जो दृश्य संस्कृत नाटकों में आए हैं उनसे अनुमान होता है कि इन पटों पर चित्र बने रहते थे। अस्तु अधिक से अधिक इस विषय में यही कहा जा सकता है कि अत्यंत प्राचीन काल में जो अभिनय हुआ करते थे। उनमें चित्रपट काम में नहीं लाए जाते थे। सिकंदर के आने के पीछे उनका प्रचार हुआ। अब भी रामलीला, रासलीला बिना परदों के होती ही हैं।

4.1. नाटक का इतिहास मध्यकाल
मध्यकाल में प्रादेशिक भाषाओं में लोकतंत्र का उदय हुआ। यह विचित्र संयोग है कि मुस्लिमकाल में जहाँ शासकों की धर्मकट्टरता ने भारत की साहित्यिक रंग-परम्परा को तोड़ डाला वहाँ लोकभाषाओं में लोकमंच का अच्छा प्रसार हुआ। रासलीला, रामलीला तथा नौटंकी आदि के रूप में लोकधर्मी नाट्यमंच बना रहा। भक्तिकाल में एक ओर तो ब्रज प्रदेश में कृष्ण की रासलीलाओं का ब्रजभाषा में अत्यधिक प्रचलन हुआ और दूसरी और विजयदशमी के अवसर पर समूचे भारत के छोटे-बड़े नगरों में रामलीला बड़ी धूमधाम से मनाई जाने लगी।
साहित्यिक दृष्टि से इस मध्यकाल में कुछ संस्कृत नाटकों के पद्यबद्ध हिन्दी छायानुवाद भी हुए, जैसे नेवाज कृत ‘अभिज्ञान शाकुन्तल’, सोमनाथ कृत ‘मालती-माधव’, हृदयरामचरित ‘हनुमन्नाटक’ आदि; कुछ मौलिक पद्यबद्ध संवादात्मक रचनाएँ भी हुईं, जैसे लछिराम कृत ‘करुणाभरण’, रघुराम नागर कृत ‘सभासार’ नाटक, गणेश कवि कृत ‘प्रद्युम्नविजय’ आदि; पर इनमें नाटकीय पद्धति का पूर्णतया निर्वाह नहीं हुआ। ये केवल संवादात्मक रचनाएँ ही कही जा सकती हैं।
इस प्रकार साहित्यिक दृष्टि तथा साहित्यिक रचनाओं के अभाव के कारण मध्यकाल में साहित्यिक रंगकर्म की ओर कोई प्रवृत्ति नहीं हुई। सच तो यह है कि आधुनिक काल में व्यावसायिक तथा साहित्यिक रंगमंच के उदय से पूर्व हमारे देश में रामलीला, नौटंकी आदि के लोकमंच ने ही चार-पाँच सौ वर्षों तक हिन्दी रंगमंच को जीवित रखा। यह लोकमंच-परम्परा आज तक विभिन्न रूपों में समूचे देश में वर्तमान है। उत्तर भारत में रामलीलाओं के अतिरिक्त महाभारत पर आधारित ‘वीर अभिमन्यु’, ‘सत्य हरिशचन्द्र’ आदि ड्रामे तथा ‘रूप-बसंत’, ‘हीर-राँझा’, ‘हकीकतराय’, ‘बिल्वामंगल’ आदि नौटंकियाँ आज तक प्रचलित हैं।

4.2. नाटक का इतिहास आधुनिक काल
आधुनिक काल में अंग्रेजी राज्य की स्थापना के साथ रंगमंच को प्रोत्साहन मिला। फलत: समूचे भारत में व्यावसायिक नाटक मंडलियाँ स्थापित हुईं। नाट्यारंगन की प्रवृत्ति सर्वप्रथम बँगला में दिखाई दी। सन् 1835 ई. के आसपास कलकत्ता में कई अव्यावसायिक रंगशालाओं का निर्माण हुआ। कलकत्ता के कुछ सम्भ्रान्त परिवारों और रईसों ने इनके निर्माण में योग दिया था और दूसरी ओर व्यावयायिक नाटक मंडलियों के असाहित्यिक प्रयास से अलग था।
बँगला के इस नाट्य-सृजन और नाट्यारंगन का अध्ययन इसलिए महत्त्वपूर्ण है, क्योंकि भारतेन्दु हरिश्चन्द्र के रंगांदोलन को इसी से दशा, दिशा और प्रेरणा मिली थी। बँगला के इस आरम्भिक साहित्यिक प्रयास में जो नाटक रचे गए वे मूल संस्कृत या अंग्रेजी नाटकों के छायानुवाद या रूपान्तर थे। स्पष्ट है कि भारतेन्दु का आरम्भिक प्रयास भी संस्कृत नाटकों के छायानुवाद का ही था।
हिन्दी रंगमंचीय साहित्यिक नाटकों में सबसे पहला हिन्दी गीतिनाट्य अमानत कृत ‘इंदर सभा’ कहा जा सकता है जो सन् 1853 ई. में लखनऊ के नवाब वाजिद अलीशाह के दरबार में खेला गया था। इसमें उर्दू-शैली का वैसा ही प्रयोग था जैसा पारसी नाटक मंडलियों ने अपने नाटकों में अपनाया। सन् 1862 ई. में काशी में ‘जानकी मंगल’ नामक विशुद्ध हिन्दी नाटक खेला गया था।
उपर्युक्त साहित्यिक रंगमंच के उपर्युक्त छुटपुट प्रयास से बहुत आगे बढ़कर पारसी मंडलियों-ओरिजिनल विक्टोरिया, एम्प्रेस विक्टोरिया, एल्फिंस्टन थियेट्रिकल कम्पनी, अल्फ्रेड थियेट्रिकल तथा न्यू अलफ्रेड कम्पनी आदि-ने व्यावसायिक रंगमंच बनाया। सर्वप्रथम बंबई और बाद में हैदराबाद, लखनऊ, बनारस, दिल्ली लाहौर आदि कई केन्द्रों और स्थानों से ये कम्पनियाँ देश-भर में घूम-घूमकर हिन्दी नाटकों का प्रदर्शन करने लगीं। इन पारसी नाटक मंडलियों के लिए पहले-पहल नसरबानी खान साहब, रौनक बनारसी, विनायक प्रसाद ‘तालिब’, ‘अहसन’ आदि लेखकों ने नाटक लिखे। जनता का सस्ता मनोरंजन और धनोपार्जन ही इन कम्पनियों का मुख्य उद्देश्य था।
इसी से उच्चकोटि के साहित्यिक नाटकों से इनका विशेष प्रयोजन नहीं था। धार्मिक-पौराणिक तथा प्रेम-प्रधान नाटकों को ही ये अपने रंगमंच पर दिखाती थीं। सस्ते और अश्लील प्रदर्शन करने में इन्हें जरा भी संकोच नहीं था। इसी से जनता की रुचि भ्रष्ट करने का दोष इन पर लगाया जाता है। भ्रमण के कारण इन कम्पनियों का रंगमंच भी इनके साथ घूमता रहता था।
किसी स्थायी रंगमंच की स्थापना इनके द्वारा भी संभव नहीं थी। रंगमंच का ढाँचा बल्लियों द्वारा निर्मित किया जाता था और स्टेज पर चित्र-विचित्र पर्दे लटका दिए जाते थे। भड़कीली-चटकीली वेशभूषा, पर्दों की नई-नई चित्रकारी तथा चमत्कारपूर्ण दृश्य-विधान की ओर इनका अधिक ध्यान रहता था। पर्दों को दृश्यों के अनुसार उठाया-गिराया जाता था। संगीत-वाद्य का आयोजन स्टेज के अगले भाग में होता था। गंभीर दृश्यों के बीच-बीच में भी भद्दे हास्यपूर्ण दृश्य जानबूझकर रखे जाते थे। बीच-बीच में शायरी, गजलें और तुकबन्दी खूब चलती थी। भाषा उर्दू-हिन्दी का मिश्रित रूप थी। संवाद पद्य-रूप तथा तुकपूर्ण खूब होते थे।
राधेश्याम कथावाचक, नारायणप्रसाद बेताब, आगाहश्र कश्मीरी, हरिकृष्ण जौहर आदि कुछ ऐसे नाटककार भी हुए हैं जिन्होंने पारसी रंगमंच को कुछ साहित्यिक पुट देकर सुधारने का प्रयत्न किया है और हिन्दी को इस व्यावसायिक रंगमंच पर लाने की चेष्टा की। पर व्यावसायिक वृत्ति के कारण संभवत: इस रंगमंच पर सुधार संभव नहीं था। इसी से इन नाटककारों को भी व्यावसायिक बन जाना पड़ा। इस प्रकार पारसी रंगमंच न विकसित हो सका, न स्थायी ही बन सका।

5. लडको के नाटक
हिंदी
हिंदी में नाटकों का प्रारंभ भारतेन्दु हरिश्चंद्र से माना जाता है। उस काल के भारतेन्दु तथा उनके समकालीन नाटककारों ने लोक चेतना के विकास के लिए नाटकों की रचना की इसलिए उस समय की सामाजिक समस्याओं को नाटकों में अभिव्यक्त होने का अच्छा अवसर मिला।
जैसाकि कहा जा चुका है, हिन्दी में अव्यावसायिक साहित्यिक रंगमंच के निर्माण का श्रीगणेश आगाहसन ‘अमानत’ लखनवी के ‘इंदर सभा’ नामक गीति-रूपक से माना जा सकता है। पर सच तो यह है कि ‘इंदर सभा’ की वास्तव में रंगमंचीय कृति नहीं थी। इसमें शामियाने के नीचे खुला स्टेज रहता था। नौटंकी की तरह तीन ओर दर्शक बैठते थे, एक ओर तख्त पर राजा इंदर का आसन लगा दिया जाता था, साथ में परियों के लिए कुर्सियाँ रखी जाती थीं। साजिंदों के पीछे एक लाल रंग का पर्दा लटका दिया जाता था। इसी के पीछे से पात्रों का प्रवेश कराया जाता था। राजा इंदर, परियाँ आदि पात्र एक बार आकर वहीं उपस्थित रहते थे। वे अपने संवाद बोलकर वापस नहीं जाते थे।
उस समय नाट्यारंगन इतना लोकप्रिय हुआ कि अमानत की ‘इंदर सभा’ के अनुकरण पर कई सभाएँ रची गई, जैसे ‘मदारीलाल की इंदर सभा’, ‘दर्याई इंदर सभा’, ‘हवाई इंदर सभा’ आदि। पारसी नाटक मंडलियों ने भी इन सभाओं और मजलिसेपरिस्तान को अपनाया। ये रचनाएँ नाटक नहीं थी और न ही इनसे हिन्दी का रंगमंच निर्मित हुआ। इसी से भारतेन्दु हरिश्चन्द्र इनको नाटकाभास कहते थे। उन्होंने इनकी पैरोडी के रूप में ‘बंदर सभा’ लिखी थी।

6. लोक नाटक
संस्कृत नाटकों का युग ढलने लगा तब चौदहवीं शताब्दी से उन्नीसवी शताब्दी तक उनका स्थान विभिन्न भारतीय भाषाओं में लोक नाटकों folk theatre ने लिया। आज अलग-अलग प्रदेशों में लोक नाटक भिन्न-भिन्न नामों से जाना जाता है।
नौटंकी - उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पंजाब
यक्षगान - कर्णाटक
रामलीला - उत्तरी भारत में
जात्रा - बंगाल, उडीसा, पूर्वी बिहार
भवई - गुजरात
नाचा - छत्तीसगढ
थेरुबुट्टू - तमिलनाडु
तमाशा - महाराष्ट्र

मनोजकुमार

वर्ष 2007 में मथुरा स्थित एक विद्यालय में भगतसिंह की जीवनी पर आधारित नाटक में अंग्रेजी सेनानायक सांडर्स की भूमिका निभा कर लोकप्रिय हुए।
कोसीकलाँ स्थित रंगमंच पर हास्य-कलाकार बनकर सदाबहार प्रसिद्धि पाई।

बैरी पिया

बैरी पिया एक भारतीय धारावाहिक है जिसकी सर्जक एकता कपूर है जिन्होंने अपने माता शोभा कपूर के साथ इस धारावाहिक का सह निर्माण किया है। यह धारावाहिक महाराष्ट्र के विदर्भ गाव में खेडूत की पृष्ठभूमि के खिलाफ सेट किया गया। इस शो का प्रीमियर २१ सितंबर २००९ को कलर्स चैनल पर हुआ। टीवी कलाकार शरद केलकर और सुप्रिया कुमारी इस धारावाहिक के मुख्य पात्र ठाकुर दिग्विजय सिंह और अमोली का किरदार निभा रहे है।

image
  • स ग त न टक अक दम भ रत सरक र द व र स थ प त भ रत क स ग त एव न टक क र ष ट र य स तर क सबस बड अक दम ह इसक म ख य लय द ल ल म ह भ रत सरक र क
  • न क कड न टक एक ऐस न ट य व ध ह ज पर पर गत र गम च य न टक स भ न न ह यह र गम च पर नह ख ल ज त तथ आमत र पर इसक रचन क स एक ल खक द व र
  • एक न टक ह इसक प रक शन वर ष 1915 ह इस न टक म म लव स थ ण श वर, कन न ज और मगध क र जपर स थ त य क वर णन म लत ह यह उनक प रथम ऐत ह स क न टक ह
  • बच त तर न टक य ब च त तर न टक ਬਚ ਤਰ ਨ ਟਕ ग र ग ब न द स ह द व र रच त दशम ग रन थ क एक भ ग ह व स तव म इसम क ई न टक क वर णन नह ह बल क
  • द ख न त न टक ट र ज ड ऐस न टक क कहत ह ज नम न यक प रत क ल पर स थ त य और शक त य स स घर ष करत ह आ तथ स कट झ लत ह अ अन त म व नष ट ह
  • स स क त न टक रसप रध न ह त ह इनम समय और स थ न क अन व त नह प ई ज त अपन रचन - प रक र य म न टक म लत क व य क ह एक प रक र ह स सन क ल गर
  • स कन दग प त, जयश कर प रस द द व र ल ख त न टक ह स कन दग प त, क म रग प त, ग व न दग प त, पर णदत त, चक रप ल त, बन ध वर म म भ मवर म म म त ग प त, प रपञ चब द ध
  • क ष क न ध न टक नर न द र क हल द व र रच त न टक ह
  • समग र न टक नर न द र क हल द व र रच त न टक ह
  • क व य - न ट य, न टक और क व य क एक म ल - ज ल व ध ह इसम क व य और न टक द न क तत व क समन वय रहत ह ह द म इस व ध क ग त - क व य, क व य - न टक द श य - क व य
  • क त ब मलय लम : ക ത ത ബ क त त ब मलय लम भ ष क एक न टक ह ज सम एक ऐस य व लड क क ह स यप र ण च त रण ह ज अज न ब ग प क रन क सपन द खत
  • चन द रग प त सन 1931 म रच त ह न द क प रस द ध न टकक र जयश कर प रस द क प रम ख न टक ह इसम व द श य स भ रत क स घर ष और उस स घर ष म भ रत क व जय क थ म
  • प रलय - स जन व श व स बढ त ह गय पर आ ख नह भर व ध य ह म लय म ट ट क ब र त गद य क त य - मह द व क क व य स धन न टक - प रक त प र ष क ल द स
  • प रस द ध ह न द न टक ह यह प रस द क अ त म और श र ष ठ न ट य - क त ह इसक कथ नक ग प तक ल स सम बद ध और श ध द व र इत ह ससम मत ह यह न टक इत ह स क प र च नत
  • ह द म न टक क प र र भ भ रत न द हर श च द र स म न ज त ह उस क ल क भ रत न द तथ उनक समक ल न न टकक र न ल क च तन क व क स क ल ए न टक क रचन
  • य न न क तरह इ ग ल ड म भ न टक ध र म क कर मक ड स अ क र त ह आ मध यय ग म चर च धर म क भ ष ल त न थ और प दर य क उपद श भ इस भ ष म ह त
  • कर ण भरण न टक ब रजभ ष क अत य त महत वप र ण क व यन टक ह इसक रचय त लछ र म ह क ष णज वन स स ब ध त यह न टक द ह च प ई छ द म ल ख गय ह और व भ न न
  • ब ध सत त व न टक प रस द ध इत ह सक र ड ड क श म ब द व र रच त एक मर ठ न टक ह यह ग रन थ प रथमतय 1945 म प रक श त ह आ थ इसक प रस त वन दत त त र य
  • ऐस न टक ज नक अन त म न यक अपन व र ध य क पर ज त करक य म रकर व जय ह त ह स ख न त न टक कहल त ह इनम सत य पर असत य क व जय ह त ह भ रत य
  • स ष ट क पहल न टक त क ई न क कड vends tu क ह रह ह ग क ह रह ह ग र गश ल ए और न ट यग ह त सभ यत चरण प र करन क ब द बन ह ग आद म य ग म सब
  • न टक 1975 म बन ह न द भ ष क फ ल म ह व जय अर ड म सम चटर ज न टक इ टरन ट म व ड ट ब स पर
  • च त र गद न टक मह भ रत स ल ह ई एक कह न ह ज स रब न द र न थ ट ग र न न ट य र प द य सन म रच इ ह इ एक प रन क न टक ह इस न टक म क छ क र द र
  • न टक त र च कश म र भ ष क व ख य त स ह त यक र म त ल ल क म द व र रच त एक न टक ह ज सक ल य उन ह सन 1982 म कश म र भ ष क ल ए स ह त य अक दम प रस क र
  • थ ड जब ब र पट ल घ स र म क तव ल ऐत ह स क न टक नह ह वह एक न टक ह स र फ न टक न टक स र फ न टक ह ह त ह एक स ह त य क कल क त क सन दर भ म
  • प चर त र भ स द व र व रच त स स क त क न टक ग र थ ह इसक कथ मह भ रत पर आध र त ह स स क त स ह त य स स क त न टक
  • एक अ क व ल न टक क एक क कहत ह अ ग र ज क वन ऐक ट प ल शब द क ल ए ह द म एक क न टक और एक क द न ह शब द क सम न र प स व यवह र
  • ज ल यस स ज र अ ग र ज भ ष क एक द ख न त न टक ह श क सप यर न इस अपन स ह त य क ज वन क त सर क ल सन 1601 स 1604 ई. क ब च ल ख थ तथ उसम न र श
  • ह स यरसर न टक ओड य भ ष क व ख य त स ह त यक र ग प ल छ टर य द व र रच त एक एक क स ग रह ह ज सक ल य उन ह सन 1982 म ओड य भ ष क ल ए स ह त य
  • न टक आख य य क दर शन न टक आद द खन भ व यक त क एक व श षत ह यह एक कल ह ज च सठ कल ओ क अन तर गत आत ह
  • म ग र श कर न ड क द व र कन नड भ ष म ल ख गय एक बह त प रस द ध न टक ह I यह न टक जर मन क ल खक थ मस म न क द व र ल ख गय न व ल ट र सप ज ड ह ड स

नाटक: आधुनिक हिन्दी नाटक, प्रसिद्ध नाटक, ऐतिहासिक नाटक, हिंदी नाटक स्क्रिप्ट, संग्राम नाटक, हिन्दी नाटक कहानी, स्कूल नाटक, नाटक की समीक्षा

संग्राम नाटक.

नाटक अंक हिंदी शब्दमित्र. मुंबई के वर्षोवा आरामबाग में एम्ब्रोज़िया थियेटर ग्रुप का नाटक हमेशा देकर देता हूं मैं का तीसरा शो 28 दिसंबर को होने जा रहा है. पहले दो शो को लोकप्रियता मिलने के बाद ग्रुप का यह तीसरा आयोजन है. मनोज वर्मा के कंसेप्ट और. ऐतिहासिक नाटक. जोधपुर: नुक्कड़ नाटक के जरिये आत्महत्या नहीं करने. स्कूल प्रशासन का कहना है कि चौथी क्लास के बच्चों ने देश की मौजूदा स्थिति का नाटक के जरिये चित्रण किया था। स्कूल प्रशासन ने पुलिस पर छात्रों और उनके अभिभावकों के साथ ही शिक्षकों का उत्पीड़न करने का आरोप लगाया।. हिन्दी नाटक कहानी. हिंदी के 10 सदाबहार नाटक BBC News हिंदी. परिभाषा नाटक का खंड या भाग जिसमें कभी कभी कई दृश्य भी होते हैं वाक्य में प्रयोग नाटक के दूसरे अंक में नायिका ने अपनी अदा से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया । समानार्थी शब्द अंक, नाट्यांक, अङ्क, नाट्याङ्क लिंग पुल्लिंग एक तरह का ​.

नाटक की समीक्षा.

नाटक हमेशा देकर देता हूं मैं का तीसरा शो, भटके. भारत में विभिन्न सामाजिक और धार्मिक अवसरों के दौरान पर बृहद पारंपरिक नाटक या लोकनाट्य किया जाता है जिसको ग्रामीण या गांव का रंग मंच बोला जाता है। यह पारंपरिक नाटक या लोकनाट्य भारत के सामाजिक और सांस्कृतिक. स्कूल नाटक. नाटक आर्काइव्ज जानकी पुल A Bridge of Worlds Literature. सहारनपुर दैनिक जागरण एवं कौशल विकास मिशन यूपी सरकार के संयुक्त तत्वावधान में मंगलवार को सहारनपुर में विकास का कौशल दिखा। प्रचार वाहन की टीम ने कई प्रमुख स्थानों पर मिशन के उद्देश्य बताकर स्वावलंबन की राह प्रशस्त की। नाटक. CAA पर चौथी के बच्चों ने पेश किया नाटक तो Jansatta. भूमि अधिग्रहण अन्य दस्तावेज़ फार्म डाउनलोड फार्म. नोटिस. सार्वजनिक सूचना घटना घोषणा निविदाएं. मीडिया गैलरी. फोटो गैलरी योजनाएं नागरिक सेवा सूचना का अधिकार. बंद करे. मुख्य पृष्ठ मीडिया गैलरी फोटो गैलरी नुक्कड़ नाटक. नुक्कड़ नाटक का प्रदर्शन कर लोगों को स्वच्छता के. नाटक हिन्दी पुस्तकें मुफ्त डाउनलोड करें हिंदी नाटक और रंगमंच हिंदी पुस्तकें Drama Books In Hindi PDF Free Download Drama e books In Hindi Drama Book Online Free.

अदा नाटक क्लब IIM Indore भारतीय प्रबंध संस्थान.

भोपाल। एक टाइगर की मौत से केवल हमारा इको सिस्टम ही प्रभावित नहीं होता, बल्कि इसके चलते हमारी पूरी लाइफ प्रभावित होती है। मंगलवार को टाइगर डे के अवसर पर लेकव्यू और डीबी मॉल में हुए नुक्कड़ नाटक के जरिए कलाकारों ने यही मैसेज. नाटक के माध्यम से स्वरोजगार के टिप्स दिए. आयोग ने 13 अक्तूबर, 2018 को आयोग ने राजीव चौक कनॉट प्लेस स्थित सेन्ट्रल पार्क के एम्फी थिएटर क्षेत्र में देश में अपनी ही तरह का एक मानव अधिकार मेला एवं नुक्कड़ नाटक उत्सव का आयोजन किया। इसका उद्घाटन आयोग की सदस्या,. 50 Actors Will Perform In A Drama नाटक में 50 Patrika. पर्यटन और सांस्कृतिक विभाग, सरकार द्वारा प्रदान किगए सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए ऑर्केस्ट्रा, तमाशा, मेलास नाटक और एनओसी के लिए प्रमाण पत्र के लिए आवेदन करने का तरीका जांचें। महाराष्ट्र के। विभाग 10 दिनों के भीतर सेवा प्रदान.

चन्द्रगुप्त रस और द्वंद्व का नाटक.

पुत्र को जन्म देने के बाद भी वह पूर्णत: वाकाटक नरेश की पत्नी नहीं बन पाती. है। भावनात्मक स्तर पर अब भी वह कुँवारी ही रह जाती है। ऐसे हालातों में. यदि पर पुरूष पति और पति पर पुरूष बन जाए तो क्या आश्चर्य । १. इस नाटक की कथावस्तु के अंतर्गत. नाटक Book List: Vani Prakashan. कर्नाटक में सीएए के खिलाफ बच्चों के नाटक पर राजद्रोह के मामले सहित आज की प्रमुख सुर्खियां. राम मंदिर ट्रस्ट की घोषणा एक हफ्ते में संभव राकेश झुनझुनवाला पर इनसाइडर ट्रेडिंग के आरोप, सेबी की जांच जारी अन्य सुर्खियां. CAA के ख़िलाफ़ बीदर का विवादित नाटक क्या. भारत रंग महोत्सव के नाटकों का दिल्ली के दर्शकों को बेहद इन्तजार रहता है. इसके पहले दो दिनों के नाटकों पर जानी मानी रंग समीक्षक, कवयित्री मंजरी श्रीवास्तव की यह विस्तृत टिप्पणी उन लोगों के लिए जो नाटक देख नहीं पाए. वे इसे पढ़ते हुए उन.

कर्नाटक के नाटक में सरकार बचाने की Times Now Hindi.

हैदराबाद में महिला डॉक्टर के साथ हुई घटना को नुक्कड़ नाटक के जरिए दिखाकर सभी को जागरूक किया गया। नाट्यशाला फाउण्डेशन की ओर से गांधी प्रतिमा पार्क में आयोजित नाटक के जरिए समझाने के प्रयास किया गया कि अपराध करने के बाद. नाटक उस वक्त पास होता है, जब रसिक समाज Merry Go. हमने अभिषेक से उनके नाटकों और अन्य विषयों पर बातचीत की है। इस बातचीत को हम दो हिस्सों में पेश करेंगे। आज हम आपके बीच इस बातचीत का पहला हिस्सा साझा कर रहे हैं। इस हिस्से में अभिषेक अपने नाटकों पर हुए हमलों और कश्मीर की. आईआईटी बॉम्बे में भाषण नाटक पर मनाही, छात्रों पर. दिल्ली में अप्रेल के महीने में अलग जगहाओं पर हो रहे हैं हिन्दी के कुछ बेहतरीन और मंनोरंजक नाटक। नाटकों में दिलचस्पी रखने वाले लोग ज़रूर देखें।.

Meaning of नाटक in English नाटक का अर्थ डिक्शनरी.

पटियाला। उत्तर क्षेत्रीय सभ्याचारक केंद्र एनजेडसीसी की ओर से स्वर्गीय प्रेम प्रकाश सिंह धालीवाल की याद में तीन दिवसीय समर नाटक उत्सव का विरसा विहार केंद्र के कालीदास आडिटोरियम में आयोजन किया गया है।. नुक्कड़ नाटक से वृक्षों को बचाने का दिया Patrika. नाटक. नया क्र. पुराना क्र. 09 11. 12 16. 14. मूल्य. 45.00. 50.00. 60.00. 19. 26. 50.00. 48. 20.00. 50. 75. 30.00. 51. 76. 77. 30.00. 40.00. 20.00. 20.00. 15.00. 35.00. 96. 11. 99. 50.00. 103. 151. 104. 152. पुस्तक नाम. विक्रमादित्य का सिंहासन. उलट फेर. सूर्य के प्रतिबिंब. रंग दे बसंती.

स्वछता अभियान नुक्कड़ नाटक चयनित समूह के नाम.

Chennai Bangalore News: कर्नाटक के बीदर स्थित एक स्कूल में नागरिकता संशोधन कानून सीएए के खिलाफ इसी महीने की शुरुआत में नाटक पेश किया गया था। पुलिस ने एक महिला टीचर और स्टूडेंट की मां को गिरफ्तार किया है।. भारत के प्रसिद्ध पारंपरिक नाटक या Jagran Josh. उन्होंने महज 23 साल की उम्र में अपना पहला नाटक ययाति 1961 में कन्नड़ में लिखा था। बाद में इसका अंग्रेजी में अनुवाद किया गया। महाराष्ट्र के माथेरान में जन्मे गिरीश की पढ़ाई मराठी में हुई। लेकिन 14 साल की उम्र में उनका परिवार.

स्वीप कार्यक्रम के तहत नुक्कड़ नाटक और रंगोली.

Опубликовано: 30 дек. 2019 г. Page 1 सुरेंद्र वर्मा के नाटक एवं एकांकियों का. सीतामढ़ी आपसी प्रेम, भाईचारा और शांति के वातावरण में ही जिले का विकास होगा. उक्त बातें डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा ने समाहरणालय में आयोजित नुक्कड़ नाटक शुभारम्भ कार्यक्रम में कही. उन्होंने कहा कि नुक्कड़ नाटक. दिल्ली सरकार का एक हज़ार युवा कलाकारों को. Karauli News in Hindi: गुढ़ाचन्द्रजीपेड़ों को बचाने का संदेश देने के Message given to save trees from street plays लिए कस्बे के आदर्श माध्यमिक विद्यालय में वन विभाग की ओर से मंगलवार को नुक्कड़ नाटक का आयोजन किया गया।.

जो नाटक से नाराज़ है, उसने कभी नाटक देखा ही नहीं.

नरेश गुप्ता अरविंद गुप्ता. नुक्कड़ नाटक का प्रदर्शन कर लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया. नाटक के माध्यम से दिया स्वच्छता का संदेश. शाहाबाद।नगर पालिका परिषद के अलग क्षेत्रों में नुक्कड़ नाटकों का प्रदर्शन कर. Buy Eklavya Tatha Anya Natak एकलव्य तथा अन्य नाटक Book. मंटो ने खुद ही सुनाई सकीना की कहानी रंगरेज स्टूडियो ब्लैक बॉक्स में नाटक पांच दिन का मंचन भोपाल नवदुनिया रिपोर्टर रंगरेज स्टूडियो ब्लैक बॉक्स में रविवार को नाटक पांच दिन का मंचन हुआ सआदत हसन मंटो के जन्मदिन के अवसर पर हुए. मीना मंच के बच्चे नुक्कड़ नाटक के जरिए रोक रहे बाल. नाटक, काव्य और गध्य का एक रूप है। जो रचना श्रवण द्वारा ही नहीं अपितु दृष्टि द्वारा भी दर्शकों के हृदय में रसानुभूति कराती है उसे नाटक या दृश्य काव्य कहते हैं। नाटक में श्रव्य काव्य से अधिक रमणीयता होती है। श्रव्य काव्य होने के कारण यह लोक चेतना से.

Online Thesis Search Results.

नाटक के क्षेत्र में उन्होंने कई प्रयोग किए। नाटक की विकास प्रक्रिया में भारतेंदु के बाद जो अवरोध पैदा हो गया था उसे प्रसाद ने तोड़ा। विषय की दृष्टि से उनके नाटक मानव जीवन की अनेकरूपता, विशदता, समता एवं विषमता का समन्वय. Chennai Bangalore News: CAA: नाटक के Navbharat Times. नाटक उस वक्त पास होता है, जब रसिक समाज उसे पंसद कर लेता है। बरात का नाटक उस वक्त पास होता है, जब राह चलते आदमी उसे पंसद कर लेते हैं। premchand Gaban. सीतामढ़ी में कला जत्था की टीम नुक्कड़ नाटक के. तीसरा परिच्छेद मौलिक उद्भावनाऐं 3.1 जयशंकर प्रसादजी के नाटकों में राष्ट्रीय भावना 3.2 प्रसादजी के नाटकों में भारतीय संस्कृति 3.3 प्रसादजी के नाटकों में प्रेम भावना 3.4 प्रसादजी के नाटकों में कल्पना 3.5 प्रसादजी के नाटकों में दर्शन.

सिनेमा व नाटक से असलियत और आनंद की ओर ड्रूपल.

श्रावस्ती हरिहरपुरानी । बाल दिवस के मौके पर कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय की छात्राओं ने नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत करके ये बताया कि अगर कम उम्र में शादी होती है तो ये कानूनन जुर्म है, साथ ही सेहत पर. थियेटर, नाटक, आगामी शो और पथनाट्यों के बारे में. उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने फेलोशिप का ऐलान करते हुए कहा कि नुक्कड़ नाटक सामाजिक संदेश फैलाने के लिए एक शक्तिशाली जरिया है जो बदलाव में मददगार होता है। इसके लिए कलाकारों से 15 सितंबर तक आवेदन आमंत्रित किगए हैं।. Nukad natak नुक्कड़ नाटक के जरिए दिखाई हैदाराबाद. आईआईटी बॉम्बे में भाषण नाटक म्यूज़िक पर मनाही, छात्रों पर देश विरोधी गतिविधियों में शामिल होने पर रोक. ताज़ा ​हॉस्टल कंडक्ट रूल को लेकर छात्रों के कहना है कि ये उनके लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन है. उनका ये भी कहना है. दिल्ली में होने वाले हिन्दी नाटकों के बारे में. MHD 04 नाटक और अन्य गद्य विधाएॅ Community home page. Browse. Collections in this community. Block 1 हिन्दी नाटक और रंगमंच १ Block 2 हिन्दी नाटक और रंगमंच २ Block 4 गद्य साहित्य की अन्य विधाएॅं १ Block 5 गद्य साहित्य की अन्य विधाएॅं २ Block 6 गद्य साहित्य. Girish Karnad passes away at 81 23 की उम्र में पहला नाटक. Meaning of नाटक in English नाटक का अर्थ नाटक ka Angrezi Matlab हिंदी मे अर्थ अंग्रेजी मे अर्थ उदाहरण और उपयोग. Pronunciation of नाटक नाटक play. Meaning of नाटक in English. Noun. Melodrama Natak, naatak Ballet Natak, naatak Theatrical performance Natak, naatak.

कर्नाटक में सीएए के खिलाफ बच्चों के नाटक पर.

कर्नाटक के बीदर ज़िले में पुलिउस शिकायत की जाँच कर रही है जिसमें एक स्कूल के प्रबंधन पर आरोप लगाया गया है कि स्कूल के बच्चों ने एक नाटक प्रस्तुत किया जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अपमान किया गया है और इस कारण. श्रेणी:नाटक Gadya Kosh हिन्दी कहानियाँ, लेख. स्वीप कार्यक्रम के तहत नुक्कड़ नाटक और रंगोली आदि का प्रदर्शन. स्वीप कार्यक्रम के तहत नुक्कड़ नाटक और रंगोली आदि का प्रदर्शन. स्वीप कार्यक्रम, नुक्कड़ नाटक एम एस डब्लु के छात्रों द्वारा. स्वीप कार्यक्रम, नुक्कड़ नाटक एम एस डब्लु के​. टीवी सीरियल से विधानसभा के नाटक तक, कैमरे पर नाटक. प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आज भारत के पूर 28 सितंबर, 2017 को दीली हाट, आईएनए, नई दिल्ली में. 28 सितंबर, 2017 को दीली हाट, आईएनए, नई दिल्ली में. 28 सितंबर, 2017 को दीली हाट, आईएनए, नई दिल्ली में. 28 सितंबर, 2017 को दीली हाट,. नुक्कड़ नाटक जिला शाहदरा, दिल्ली सरकार इंडिया. Gwalior News in Hindi: समर्पण थिएटर आर्ट्स की ओर से 23 सितंबर को नाटक रक्तगंध का मंचन जीवाजी यूनिवर्सिटी के गालव सभागार में शाम 7 बजे से किया जाएगा।. मानव अधिकार मेला एवं नुक्कड़ नाटक उत्सव NHRC. जब हम सिनेमा देखते हैं तो हम पर्दे पर चल रहे नाटक को देख रहे होते हैं। एक गुरु हमें उस पर्दे पर हो रहे प्रोजेक्शन की हकीकत को समझाने के लिए हमें प्रोजेक्शन रूम तक ले जाता है। सूर्य वास्तव में न कभी उगता है, न डूबता है। मगर जिस तरह से.

द आर्टिस्ट

द आर्टिस्ट 2011 की एक फ्रांसीसी/अमेरिकी मूक रोमांस हास्य फ़िल्म है जिसका निर्देशन मिशेल हज़ानविसियस ने किया है और फ़िल्म के प्रमुख सितारे जीन दुजार्दिन और बे...

द एनिमल्स फिल्म

द एनिमल्स फिल्म, विक्टर स्कॉनफेल्ड एवं मिरिअम अल्औक्स द्वारा निर्देशित, मानव द्वारा जानवरों के इस्तेमाल के बारे में एक फीचर डॉक्यूमेंट्री फिल्म है। अभिनेत्री...

गाँधी (फ़िल्म)

गाँधी १९८२ में बनी लोकप्रिय भारतीय हस्ती मोहनदास करमचंद गाँधी के वास्तविक जीवनी पर आधारित फ़िल्म है। फ़िल्म का निर्देशन रिचर्ड एटनबरो द्वारा किया गया है और इ...

द गॉडफ़ादर

द गॉडफ़ादर एक 1972 की अमेरिकी थ्रिलर फ़िल्म है, जो मारियो प्युज़ो के इसी नाम के उपन्यास साँचा:Lty पर आधारित है और प्यूज़ो, कोपोला और रॉबर्ट टाउन की पटकथा के ...

रोमा (2018 फ़िल्म)

रोमा, 2018 की एक ड्रामा फिल्म है, जिसे अल्फांसो क्वारोन द्वारा लिखित और निर्देशित किया गया है, इन्होंने इसका निर्माण, शूटिंग और सह-संपादन भी किया है। 1970 और...

मिल्क (फिल्म)

मिल्क 2008 की अमेरिकी, जीवनी आधारित फिल्म है जो समलैंगिक अधिकारों के कार्यकर्ता तथा राजनीतिज्ञ हार्वे मिल्क के जीवन पर आधारित है, जो कैलिफोर्निया के एक सार्व...

अक्रॉस द यूनिवर्स (फ़िल्म)

अक्रॉस द यूनिवर्स एक संगीतमय फिल्म है जिसके निर्देशक जूली टेमर, निर्माता रेवलूशन स्टूडियोज़ और वितरक कोलंबिया पिक्चर्स हैं। इसे 12 अक्टूबर 2007 को संयुक्त रा...

शक्ति (1982 फ़िल्म)

इस फिल्म से पहली बार रमेश सिप्पी ने अपने घरेलू बैनर ‘सिप्पी फिल्म्स’ से बाहर जाकर निर्माता मुशीर-रियाज़ की कंपनी एम.आर. प्रोडक्शन्स के लिए फिल्म का निर्देशन ...

आई (फ़िल्म)

आई तमिल भाषा में बनी एक भारतीय बॉलीवुड फ़िल्म है। इसे हिन्दी और तेलुगू भाषा में अनुवादित किया गया है। यह फ़िल्म एस शंकर द्वारा निर्देशित की गई है जिसका निर्म...

देवदास (बहुविकल्पी)

देवदास बंगाली उपन्यासकार शरतचंद्र चट्टोपाध्याय द्वारा लिखा गया एक उपन्यास है जो 1917 में प्रकाशित हुआ था और इसपर कई फिल्में बनी। देवदास का प्रयोग इनके लिए भी...

द रीडर (फिल्म)

द रीडर, 2008 की एक ड्रामा फिल्म है जो बर्नार्ड श्लिंक के 1995 में जर्मन में इसी नाम से प्रकाशित उपन्यास पर आधारित है। इस फिल्म के रूपांतरण का लेखन डेविड हेअर...

भरतवाक्य

नाटकों के अन्त में भरत मुनि के सम्मान में गेय आशीर्वाद पद्य भरतवाक्य कहलाता है। संस्कृत के नाटकों में यह प्रचलित है। नाटक के अन्त में नाटककार, नाट्यशास्त्र क...

ज्वाला प्रसाद मिश्र

पण्डित ज्वाला प्रसाद मिश्र नाटककार, कवि, व्याख्याता, अनुवादक, संशोधक, धर्मोपदेशक तथा इतिहासकार थे। उन्होने श्री वेंकटेश्वर स्टीम प्रेस के माध्यम से सैकड़ों प...

विजी प्रकाश

विजया लक्ष्मी प्रकाश, जिन्हें विजी प्रकाश नाम से सबसे ज्यादा जाना जाता है, एक भारतीय महिला भरतनाट्यम् नर्तक, प्रशिक्षक, कोरियोग्राफर, और शक्ति डांस कंपनी की ...

मीनाक्षी श्रीनिवासन

मीनाक्षी श्रीनिवासन का जन्म 11 जून १९७१ मे तमिलनाडु के चेन्नई मे हुआ। वह एक भारतीय शास्त्रीय नृत्यांगना और कोरियोग्राफर हैं, जो भरतनाट्यम की पांडनल्लूर शैली ...

शैलेंद्रकुमार शर्मा

शैलेंद्रकुमार शर्मा वरिष्ठ लेखक, आलोचक, लोक संस्कृति मनीषी और सम्पादक हैं। वे आलोचना, निबंध लेखन, संस्मरण, इंटरव्यू, नाटक तथा रंगमंच समीक्षा, लोक साहित्य एवं...

मालविका सरुक्कई

मालविका सरुक्कई एक भारतीय शास्त्रीय नर्तकी और भरतनाट्यम में विशेषज्ञता वाली कोरियोग्राफर हैं। उनकी माँ का नाम सरोजा कामाक्षी सरुक्कई था। उनकी शास्त्रीय नृत्य...

भारतवर्ष

भारतवर्ष संज्ञा पुं० पुराणानुसार जंबू द्वीप के अंतर्गत नौ वर्षों या खंडों में से एक जो हिमालय के दक्षिण ओर गंगोत्तरी से लेकर कन्याकुमारी तक और सिंधु नदी से ब...

ऊषा गांगुली

ऊषा गाङ्गुलि एक भारतीय थिएटर निर्देशक-अभिनेत्री एवं सक्रिय समाजकर्मी थीं। १९७० एवं १९८० के दशक में कोलकाता शहर में ऊषा हिन्दी थिएटर में काफी सक्रिय थीं। सन १...

पवित्र भाग्य

पवित्र भाग्य एक भारतीय पारिवारिक प्रेमकहानि धारावाहिक है जिसकी सर्जक एकता कपूर है। ये धारावाहिक ३ मार्च २०२० से सोम-शुक्र रात १०:०० बजे भारतीय टीवी चैनल कलर्...

बंदिनी

बंदिनी एक भारतीय धारावाहिक है जिसकी सर्जक एकता कपूर है जिन्होंने अपने माता शोभा कपूर के साथ इस धारावाहिक का सह निर्माण किया है। इस धारावाहिक में टीवी के मशहू...

वूज योर डैडी

हुज योर डैडी ज़ी5 की नई वेब श्रृंखला है। इसमें राहुल देव, यूट्यूबर हर्ष बेनीवाल, निखिल भांबरी और अनवेशी जैन ने अभिनय किया है। कहानी विभिन्न हिलियारो स्थितियो...