Топ-100

मौलिक समतल (गोलीय निर्देशांक)

किसी गोलीय निर्देशांक प्रणाली में मौलिक समतल ऐसा एक काल्पनिक समतल होता है जो उस गोले को दो बराबर के गोलार्धों में विभाजित कर दे। फिर उस गोले पर स्थित किसी भी बिन्दु का अक्षांश उस समतल और गोले के केन्द्र से बिन्दु को जोड़ने वाली रेखा के बीच का कोण होता है।
पृथ्वी पर यह समतल भूमध्य रेखा द्वारा निर्धारित करा गया है। यदि पृथ्वी के ज्यामितीय केन्द्र से नई दिल्ली शहर के बीच के क्षेत्र तक एक काल्पनिक रेखा खींची जाये तो उसका इस समतल से बना कोण ऐंगल लगभग २८.६१३९° बनेगा और यह समतल से उत्तर में है। इसलिये भूगोलीय निर्देशांक प्रणाली के तहत नई दिल्ली का अक्षांश भी २८.६१३९° उत्तर 28.6139° N माना जाता है।

ल ए खग ल य ग ल स स पर शर ख य क स क ल पन क समतल क सन दर भ समतल समझ ज त ह म ल क समतल ग ल य न र द श क कक ष य र श य कक ष य झ क व आर ह त ख क अक ष श
क ष त ज न र द श क प रण ल horizontal coordinate system एक खग ल य न र द श क प रण ल ह ज सम प र क षक क स थ न त क ष त ज क म ल क समतल म न ज त ह
क क छ म ल क भ ग म स एक ह ज सक अर थ ह क यह अन य भ ग क म ध यम स पर भ ष त नह क य ज सकत ह क य क वर तम न म इसस ज य द म ल क तथ य क
ग भ र ब ध क न र करण श म ट Schmidt द व र 1930 ई. म ह आ, जब उन ह न ग ल य अवतल दर पण क स थ - स थ एक जट ल क स म क स श धनपट ट क व यवह र क य ऐस उपकरण
म द क - क ल न र द श क t, x, y, z ह और न र द श त त र S म न र द श क t x y z ह तब ल र न ज र प तरण क अन स र इन न र द श क क न म न सम बन ध